KAUMARYA SAURAV
kaumarya saurav   

YOU ARE IN THE WORLD OF KAUMARYA SAURAV  
                        
                             here happiness is mandotary

हमसे प्यार करके तुम 

 जताना भूल जाती हो 

 नए का साथ मिलता है 

 तो पुराना भूल जाती हो .........................

 मै गजब का इश्क़ करता हूँ 

  मेरी तन्हाई कहती है 

  वो जब भी दूर होते हैं 

  अश्क इतने गिरते हैं 

  समंदर पास ....... 

कहती हैं गंगा जब मुझसे 

प्रेम लग्न की बातें अपनी 

सुना सुना दिल था अपना 

तन्हा  तन्हा रातें अपनी ...................


इश्क़ में रुस्वा हो न कोई 

वो अब बात कहाँ होती हैं

चकोर चांदनी को देखे

वो अब बात कहाँ होती हैं.....................